Poem on Teachers Day in Hindi – शिक्षक दिवस पर कविता

Poem on Teachers Day in Hindi – शिक्षक दिवस पर कविता

गुरु के अंदर ज्ञान का
कल कल का निनाद
शिष्य त्याग अहंकार का
लेता मधुर स्वाद

शिक्षक दिवस के लिए
क्यों 5 सितम्बर चुनते है
इस दिन ऐसा क्या है
जो इसको ही गुनते है

बड़े गर्व की बात है ये
भारत की मिटटी का राज है ये
डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन जैसे
महान शिक्षाविद का
जन्न्मदिन है ये

शिक्षा के महत्व्व को जिसने
हमें इंगित किया
गुरु शिष्य सम्बन्ध को
और भी मजबूत किया

गुरु की ऊर्जा
शिष्य की किरणे
सूर्य सी ऊर्जा, सूर्या की किरणे
साथ में मिलते जब दोनों

प्रकाश पुंज बन खिल जाते है
अम्बर से धरती तक सब
एकसार हो जाते है

गुरु के अनुदान में
छिपा है पवन परिणाम
ले सको तो ले लो
सच्ची संपत्ति जान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here