Nursery Poem in Hindi – बच्चों की कविता

 Nursery Poem in Hindi – बच्चों की कविता

 

1 – बिल्ली

दो बिल्ली दोनों बहने
दोनों निकली खाना पाने
किसी रसोई या बागान में
कुछ भी मिल जाये खाने

बड़े संयोग से एक चपाती
लग गयी उनके हाथ
खुश होकर बहार निकली
चलो खाएंगे साथ

तभी एक बन्दर ने देखा
धूर्त इरादे से उनको परखा
झट से बोला सुनो मेरी बहना
मैं बाटूंगा आप का खाना

दोनों ने बन्दर को देखा
तिरछी आँखों से उसको ताड़ा

बोली …

नहीं तेरी जरुरत है
हम दोनों की एक मत है
नहीं गलेगी दाल तेरी
कपट से भरी चाल तेरी

दुम दबा के बन्दर भागा
दोनों बहनो ने मिल कर खाया

2 – गाय

ताता ताता थैया थैया
नाच रही है मोरी गईया

सुबह शाम चरने को जाती
गले की घंटी टुन टुन बजती

घास फूस और खल्ली खाकर
मीठा मीठा दूध पिलाती

इसके दूध से बने मिठाई
हम बच्चो को मिले मलाई

इसके झील से दो नयन
सबका मोह लेती मन

कई रंग के इसके तन
देती हमे अपार धन

गाय हमारी माता है
हमारी सभ्यता ये सिखाता है

गौ हत्या का पाप न लो
ब्रह्म हत्या का शाप न लो

गांव गांव में हो गौशाला
भारत होगा किस्मत वाला

सुख समृद्धि सब कुछ लाये
खुल जायें किस्मत का ताला

3 – हाथी

हाथी मामा मामा
तुम भी पहनो कुरता पायजामा

सूंढ़ तुम्हारी निराली है
चाल तुम्हारी मतवाली है

पर्वत सा आकर तुम्हारा
आंखे छोटी छोटी

सूप जैसे कान है तेरे
पूँछ है छोटी सी

लम्बा चौड़ा भूरा काला
हाथी है भाई बड़ा निराला

रोज नियम से करता स्नान
सूंढ़ है उसका वरदान

शाकाहारी जीव है
गन्ने प्रेम से खाता है

बाघ हो या सिंह हो
निर्भयता से टकराता है

हाथी शुभ का प्रतिक है
राजा रानी का अतीत है

गुस्सा न कभी इनको दिलाना
ये दृस्य बड़ा भयभीत है

4 – चिड़िया घर

टीचर – चलो बच्चो हम तैयार हो जाये
तुम्हे चिड़िया घर के सैर कराएं

बच्चे – ओके टीचर ..थैंक यू टीचर ..चलो चलो तैयार हो जाएँ

आज कुछ सैर सपाटे हो जाये
चिड़िया घर की सैर कराये

हम सब पहुंचे चिड़िया घर
देखा एक नटखट बन्दर

दांत अपनी दिखा रहा था
उछल कूद मचा रहा था

ठुमक ठुमक के भालू नाचा
उधर से आया हाथी राजा

उसने अपनी सूंढ़ उठाई
खरगोश को उसमे लपेटा

चिम्पांजी को बैठा देखा
मजे से केला खा रहा था

लम्बी टांगो वाला बारहसिंघा
आगे कदम बढ़ा रहा था

हिरन ने ऐसी छलांग लगाई
चारो और धूम मचाई

उधर से आया गब्बर शेर
चलो बच्चो हो गई देर

टीचर टीचर जिराफ दिखाओ
बौने का भी नाच दिखाओ

ठुमक ठुमक के बौना आया
गुलाटी मार के नाच दिखाया

बच्चे हंस हंस के हुए बेहाल
बौना देख के हुआ निहाल

5 – सब्जी

देखो ठेला वाला आया
हरी हरी सब्जी लाया

चुन्नू देखकर मुंह बिचकाया
मुन्नू दौड़ा दौड़ा आया ..पूछा ..

रामु काका आज क्या लाये हो ??
आहा !!!!! पालक लेकर आएं हो , साथ में ,,,
गाजर मूली टमाटर भी लाएं हो

हरी सब्जियां खाकर हम सेहत मंद जायेंगे
नहीं पड़ेंगे बीमार , जल्दी जल्दी बड़े हो जायेंगे

तभी ……….

बेंगन और ककड़ी आपस में लड़ने लगे
एक दूसरे को उलटी सीधी कहने लगे

बैगन कहता….अरे ककड़ी दिखने में तू है सुखड़ी
फिर भी चलती अकड़ी अकड़ी

ककड़ी चिढ़ कर बोली….
काले कलूटे बातें करता छोटें छोटें

हरी मटर निकल कर आयी
भूल जाओ भाई अपनी लड़ाई

जो हम सब को खायेगा
भरपूर विटामिन पायेगा

जो टॉफी चॉक्लेट खायेगा
वो टिन्गु ही रह जायेगा

More Hindi Poems | हिंदी कवितायेँ 

1 – Poem On Nature in Hindiप्रकृति पर हिंदी कविता
2 – Poem on Mother in HindiHindi Kavita on Maaमाँ पर कविता
3 – Poem on Cleanliness in Hindiस्वच्छता पर कविता
4 – Hindi Poem on Shivratriशिवरात्रि पर कविता
5 – Poem on Peacock in Hindiमोर पर कविता
6 – Hindi Poem on Unityएकता पर कविता
7 – Poem on Corruption in HindiBhrashtachar par Kavitaभ्रष्टाचार पर कविता
8 – Kids Poem in Hindiबच्चो की कविता
9 – Desh Bhakti Poem in HindiDesh Bhakti Kavita in Hindiदेश भक्ति गीत
10 – Poem on Flowers in Hindiफूल पर कविता
11 – Holi Poem in Hindiहोली पर कविता

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here