Neem Tree Benefits in Hindi – Neem ke Fayde – नीम के फायदे

Neem Tree Benefits in Hindi – Neem ke Fayde – नीम के फायदे

नीम का वृक्ष (Neem Tree) सर्वहितकारी और सर्वोपकारी के रूप में जाना जाता है। यह वृक्ष वातावरण को शुद्ध करता है। इसके आस -पास का वातावरण पावन, पवित्र और निरोगी हो जाता है। इस वृक्ष का प्रत्येक भाग जीव् के लिए लाभकारी और चमत्कारी होता है। नीम के वृक्ष (Neem Tree) की पतली टहनी दातुन के रूप में दांत साफ करने के काम में आता है। यह दांत के कीड़े को समाप्त कर देता है। नीम की गुठली से निकला तेल दांत और मसूड़ों को आराम देता है। इस वृक्ष के छाल से क्वाथ (काढ़ा ) बनता है। इसकी पत्तियां अनेक प्रकार के रोग- विकार, फोड़े, फुंसी सभी को दूर करते हैं ।

नीम में Antiseptic और Antiallergic गुण होता है। नीम हमारे खून से लेकर आंत तक की सफाई करता है और बाल से लेकर त्वचा तक की रक्षा करता है। इसका प्रयोग आयुर्वेदिक और होम्योपैथिक दवाइयां बनाने में प्रचुर रूप में होता है।

नीम का वृक्ष सभी जगह पाए जाते हैं। हिंदू सनातन धर्म में कुछ विशेष वृक्षों को देव तुल्य माना जाता है जैसे पीपल, बरगद, तुलसी, नीम इत्यादि । पीपल वृक्ष में ब्रह्म का निवास माना गया है। बरगद में सावित्री माता का। तुलसी में नारायण का और नींम में शीतला माता का निवास माना जाता है। यह जितना उपकारी है उतना ही पूजनीय भी है। यह स्वाद में कड़वा लेकिन स्वभाव से शीतल है ,अर्थात इसका तासीर ठंडा होता है ।

Neem Tree Benefits in Hindi

नीम के फायदे – Neem Tree Benefits in Hindi

1 Chickenpox और Smallpox में नीम का लाभ

चिकन पॉक्स और स्मॉल पॉक्स में शरीर में अत्यधिक जलन और बेचैनी होती है। इस समय नीम की पत्ती और उसकी टहनी बहुत काम में आते हैं। पत्ते युक्त टहनी को रोगी के बिस्तर पर उसके आसपास रख देने से उसे बहुत आराम मिलता है।

नीम की पत्तियों का रोगी के कमरे में धुआं देने से रोगी को बहुत आराम मिलता है।

2 . नीम जॉन्डिस (पीलिया) में लाभकारी होता है

a . नीम के पत्ते के रस में सोंठ का चूर्ण मिलाकर खाने से जॉन्डिस में फायदा होता है।
b . नीम का छाल का काढ़ा बनाकर पीने से पीलिया में अत्यधिक फायदा होता है।

3. नीम पथरी बाहर निकालने में सहायक सिद्ध होता है

नीम के पत्तों को तबा पर सूखा भून ले उसका चूर्ण बना लें और पानी के साथ इसे पी जाए। इससे पथरी निकलने में सहायता मिलती है।

4. नीम त्वचा के सौंदर्य को निखरता है

a . नीम के 8 या 10 पत्ते पीस ले। उसमें खट्टी दही, भीगा हुआ चना दाल, थोड़ा सा गुलाब जल मिलाकर पेस्ट बना लें। इसे मास्क की तरह अपने चेहरे पर लगाएं। इसे उबटन की तरह अपने पूरे body पर भी लगा सकते हैं । 10 से 15 मिनट के बाद normal पानी से धो लें ।सप्ताह में दो बार इसका प्रयोग कर सकते हैं। ऐसा करने से चेहरा Wrinkle free और चमकदार हो जाता है।
b . नीम, तुलसी, गुलाब की पत्तियां, पुदीना इन सब की 8 से 10 पत्तियां पीस लें और उसमें मुल्तानी मिट्टी, चंदन पाउडर,
दो -चार बूंद नींबू का रस डालकर चेहरे पर इस्तेमाल करें ।चेहरे से कील मुहासे समाप्त हो जाएंगे और आपका चेहरा खिल उठेगा।

5 नीम दांत के दर्द और कीड़ों से बचाता है

a . नीम का दातुन करने से मसूड़े स्वस्थ होते हैं और दांत में कीड़े नहीं लगते हैं ।

b . नीम के गुठली से निकाला गया तेल दन्त और मसूढ़ों पर मालिश करने से दांत का दर्द खत्म हो जाता है और मसूढ़े मज़बूत
होते हैं ।

c . नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर कुल्ला करने से आराम मिलता है। दांतों के जीवाणु नष्ट हो जाते हैं और मुंह का दुर्गंध भी निकल जाता है।

6 . नीम कान के दर्द में लाभकारी होता है

नीम का तेल कान में डालने से कान का दर्द ठीक हो जाता है । कान के अंदर फोड़ा फुंसी सब को ठीक कर देता है।

7 . नीम से बुखार में लाभ होता है

नीम के पत्तों का रस निकालकर उसमें मधु या मिश्री मिलाकर बुखार में खाने से लाभ होता है

8 . नीम फोड़ा और घाव में लाभकारी होता है

a . नीम का छाल घाव पर पीस के लगाने से घाव सूख जाता है। इसका पत्ता पीसकर लगाने से भी बहुत फायदेमंद होता है। घाव का मवाद निकल जाता है ।

b . नीम के पत्ते को पानी में उबालकर उसे छान लें । उस जल से घाव को धोने से घाव जल्दी ठीक हो जाता है।

9 नीम पेट के कृमि नष्ट कर देता है

नीम के कोमल पत्तों को सुबह- सुबह खाली पेट चबा कर खाने से कृमि नष्ट हो जाते हैं।

10 . नीम से Diabetes और Cholesterol नियंत्रण में रहता है

a . नीम का छाल और उसमें मेथी पाउडर मिलाकर काढ़ा बनाकर उसका सेवन करने से Diabetes बहुत कंट्रोल में रहता है।

b . एलोवेरा का जूस और नीम के पत्ते का रस दोनों बराबर मात्रा में मिलाकर प्रतिदिन खाली पेट में पीने से Sugar नियंत्रण में
रहता है।

c . नीम के दो या तीन कोमल पत्तियों को चबाकर खाने से Cholesterol में लाभ होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here